+91-8800589339
ABOUT
DESH KI BAAT FOUNDATION

देश की बात फाउंडेशन

लोगों में देशप्रेम एवं सकारात्मक राष्ट्रवाद की भावना जागृत करने तथा
देश में सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक विचार के पुनर्जागरण हेतु

देश की बात लोगों में देशप्रेम एवं सकारात्मक राष्ट्रवाद की भावना जागृत करने तथा देश में सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक विचार के पुनर्जागरण हेतु 70 साल की आजादी के बाद भी भारत के सामने कई चुनौतियाँ है, चाहे वो सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक या प्राकृतिक स्तर पर हों । क्या भारत 21 वीं सदी की इन चुनौतियों के लिए तैयार है ? क्या इन चुनौतियों पर विचार – विमर्श कर उनका हल ढूंढ कर देश को एक नई सोच, नई ऊर्जा और नए समाधानों की जरूरत हैं ? और उन पर कार्य कैसे किया जाये ? इन्ही सब सवालों का जवाब ढूँढने की प्रक्रिया से जन्मी है ‘देश की बात’। ‘देश की बात’ देश के ज्वलंत मुद्दों का समाधान ढूँढने की दिशा में एक सकारात्मक प्रयास है । इसका उद्देश्य है देश की वैचारिक क्षमता और ऊर्जा को एकत्रित करके देश के समग्र विकास के लिए उन्हें क्रियान्वित करना । इस मंच का ध्येय है की देश के बुद्धिजीवी वर्ग की ऊर्जा को देश के समस्त नागरिकों के समूचे विकास के लिए इस युग के परिप्रेक्ष्य में एक नई सोच, नई दिशा, खोज, वैचारिक पुनर्जागरण कर उसे युवा पीढ़ी का मार्गदर्शक बनाकर एक उन्नत और शक्तिशाली भारत का विकास करना है । पिछले कुछ वर्षों से राष्ट्रवाद देश में एक बहस का विषय बना हुआ है । आम आदमी से लेकर सियासतदान और बुद्धिजीवी वर्ग तक सभी लोग राष्ट्रवाद की परिभाषा अपने-अपने तरीके से बता रहे हैं । ऐसे में वैचारिक और आपसी संघर्ष को पनपने का मौका मिल रहा है । लेकिन इस आपसी लड़ाई में राष्ट्रवाद के उद्देश्यों को संकुचित करके भारत की विभिन्नता से परिपूर्ण संस्कृति को नजरअंदाज किया जा रहा है । कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक विभिन्न भाषा , बोली, रहन – सहन और ज़िंदगी जीने के अलग अलग मायने हैं और इस विविधता में एकता को मजबूत करते हुए सबको साथ लेकर चलना है ‘देश की बात’ । इस मंच के जरिये राष्ट्रवाद के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा कर एक सकारात्मक राष्ट्रवाद की सोच और भावना विकसित की जाएगी । 21वीं सदी के राष्ट्रवाद को भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के सकारात्मक, शक्तिशाली और सम्मिलित राष्ट्रवाद के वैचारिक दृष्टिकोण के परिप्रेक्ष से देख – समझ कर उसी भावना को पुन: पैदा करना इस मंच का लक्ष्य है । दूसरा ज्वलंत मुद्दा होगा भारत की तत्कालीन आर्थिक स्थिती और आने वाले समय की चुनौतियों पर चर्चा और समाधानों पर विजन तैयार करना । भारत को आर्थिक रूप से सुदृढ बनाने के साधनों, तरीकों और उनके विकास को लेकर जनमानस की ऊर्जा को एक सकारात्मक दिशा देकर एक सशक्त दृष्टिकोण बनाना इस मंच का मुख्य ध्येय होगा। तीसरा मुद्दा जिसको ‘देश की बात’ बहुत अहम मानती है वो है भारतीय संविधान की नीव, उसकी प्रस्तावना में निहित इन मूल्यों, सिद्धांतों और लक्ष्यों को वास्तविक रूप देना । चौथा तत्कालीन मुद्दा है, प्राक्रतिक संपदा को संभाल कर रखना व उसका विकास करना । अत्यधिक उपभोग करने की प्रवृत्ति ने प्रकृति पर इतना बोझ डाल दिया है की उसके प्रतिकूल असर रोज़मर्रा के जीवन पर दिखाई देने लगे हैं । इनपर चर्चा और एक समाधान की दिशा में कार्य ज़रूरी हैं । ये समकालीन मुद्दे देश के ज्वलंत मुद्दे हैं, जिनसे जूझने के लिए हमें एक हो कर इनका उपाय ढूंढना होगा ।
देश की बात इसी दिशा में एक कोशिश है
अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ‘देश की बात’ निन्मलिखित कार्य करेगी :-
1. सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक व प्राकृतिक मुद्दों पर सेमिनार, विचार गोष्ठी और सम्मलेन आयोजित करेगी । देशप्रेम एवं सकारत्मक राष्ट्रवाद की भावना बढ़ाने तथा मानवीय सोच विकसित करने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन ।
2. वैज्ञानिक सोच पैदा करने के लिए ज्ञान केंद्र एवं रिसर्च सेण्टर की स्थापना करना ।
3. देश के लिए काम करने के लिए फ़ेलोशिप प्रदान करना । समाज से जुड़े सभी वर्ग के विकास के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण संरक्षण, सामाजिक एवं राष्ट्रीय एकता और कौशल विकास के लिए परियोजनाएं शुरू करना ।
4. थिंक टैंक और देशहित में कार्यरत लोगों को फंडिंग के माध्यम से सपोर्ट कर देश के समग्र विकास का अपना लक्ष्य पूरा करना।

“इस धरती की कसम, इस अम्बर की कसम, ये ताना बाना बदलेगा.”
“तू खुद तो बदल, तू खुद तो बदल, तब तो ये ज़माना बदलेगा.”

आइये, इस मिशन को हम साथ मिल कर आगे बढ़ाएं ।

Desh Ki Baat Foundation

To awaken the spirit of patriotism with positive nationalism among the people, for the revival of the social, political and economic, thought in the country.

Even after 70 years of independence, India faces many challenges on the social, political and economic front. Is India ready for these challenges of the 21st century? Does our country need a new thought, new energy and new solutions by focussing on these challenges? And how to work on them? 'Desh Ki Baat' is born out of this search for finding answers to all these pressing concerns.
'Desh Ki Baat' is a positive effort aimed at finding a solution to the burning issues of our country. Its objective is to mobilise the ideological capacity and energy of the country and implement them for the overall development of our nation. The aim of this forum is to channelise the energy of the country’s intelligentsia towards the progress of all the citizens in this country, by developing a fresh perspective for the present, guiding the youth towards a new kind of thinking, new direction, discovery, ideological rejuvenation and direct their prowess to develop a strong, progressive India.
Nationalism has been a debatable subject in the country for a few years now. Everyone, from a common man, to a politician and the intellectual is trying to explain nationalism from their perspective.. This is being done in such a way that ideological and personal conflicts are getting a chance to grow. This mutual conflict is resulting in the narrowing of the objectives of nationalism, by ignoring the diversity that exists in the Indian culture. From Kashmir to Kanyakumari, there are many languages, dialects, different standards of living and yardsticks of life and to strengthen unity, despite the diversity, by taking everyone along, is the idea behind ‘Desh ki Baat’.
Through this forum, various aspects of nationalism will be discussed and positive thought and emotion will be developed. To view 21st century nationalism from the perspective of the ideological view of the positive, powerful and inclusive nationalism of the Indian freedom struggle, understand it and evoke the same emotions prevalent then, is the aim of the forum.
The second important issue is to discuss India's current economic situation and create a vision for the challenges that lie ahead and its solutions. The means and methods, and its development to make India economically independent and strong, by channeling the common man’s energies in a positive direction and creating a strong perspective, is the purpose behind this foundation.
The third issue that 'Desh Ki Baat ' considers very important is the foundation of the Indian Constitution and giving shape to those values, ​​principles and goals contained in its Preamble.
The fourth pressing issue is to protect and develop its natural resources. The tendency to consume excessively has put so much burden on nature that the adverse effects it has started reflecting on our everyday life. Discussing these issues and working towards its solution are need of the hour.
These contemporary issues are the burning issues confronting our country today, for which we need to unite to find a solution. Desh Ki Baat is an effort in this direction.
To achieve its goal, 'Desh Ki Baat' will do the following:
1. To organize seminars, discussions and conferences on social, economic, political and environmental issues.. To organise cultural programs, to instil the spirit of patriotism and positive nationalism and to expand thinking.
2. To establish a knowledge and research center to generate a scientific temperament.
3. Grant of fellowship to work for the country. initiating projects for education, health, environmental protection, social and national integration and skill development, to help all sections of society progress.
4. By funding think tanks and those working in national interest, to fulfill its goal of overall development of the country.

“Is dharti ki kasam, is ambar ki kasam,ye tana bana badlega
“ Tu khud to badal tu khud to badal, tab to ye zamana badlega”

PROGRAM ON FOUNDATION DAY
RESIDENTIAL TRAINING CAMP, BHIMTAAL (UTTARAKHAND)
RESIDENTIAL TRAINING CAMP, GANGA INTERNATIONAL (DELHI)
RESIDENTIAL TRAINING CAMP, DHANAULTI (UTTARAKHAND)
DESH KI BAAT CENTRAL PROGRAMME
DESH KI BAAT PROGRAM IN UNIVERSITIES & COLLEGES
DESH KI BAAT PROGRAMME IN DIFFERENT LOCALITIES